Tuesday, February 2, 2010

मुसाफिर


जीवन तट पर खड़ा मुसाफिर
देख रहा है जीवन धार
नितांत अकेला इस पार मुसाफिर
सोच रहा-क्या है उस पार

इक उम्र चल चूका मुसाफिर
अचल खड़ा है आज इस पार
देख नग्न- सत्य की तलवार मुसाफिर
सोच रहा- क्या है उस पार

अनुतरित प्रशनों से घिरा मुसाफिर
देख रहा है मृग तृष्णाओं का संसार
असमंजस मध्य इस पार मुसाफिर
सोच रहा -क्या है उस पार

कवी बन बैठा आज मुसाफिर
हृदय लिए भावनाओं का उबार
सर्वस्व हार चूका मुसाफिर
सोच रहा-ये कैसी हार

No comments:

चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर

तू किसी शोख़ का सिंगार कर रख भी दे ये ख़ामोशी उतार कर तीरगी ये पल में टूट जायेगी  चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर एक ही नहीं कई शिकायतें ...