Wednesday, February 17, 2010

वो खूब हंसा था नुक्कड़ पर मैखाने में


रात फिर शोर उठा था, कहीं पर, जाने अंजाने में
सुना है कल वो खूब हंसा था नुक्कड़ पर मैखाने में

जीवित पलों की आपाधापी
निद्रा में अबतक थी जिसने नापी
जीवन बीता था जिसका अब तक
बस सोने और सुस्ताने में
सुना है कल वो खूब हंसा था नुक्कड़ पर मैखाने में

वो कहता है 'मैं' बिन जीवन-सार अधुरा
अंधा है जग ये सारा संसार पूरा
नहीं समझते लोग यहाँ पर
रहस्य है कुछ 'मैं ' में अंगूर के दाने में
सुना है कल वो खूब हंसा था नुक्कड़ पर मैखाने में

समय की पदचाप सुनता
जीवन सार आप बुनता
दिखा गया वो इक गाँठ साकी को
जीवन के ताने बाने में
सुना है कल वो खूब हंसा था नुक्कड़ पर मैखाने में

..........................

चक्रेश सिंह
१६/२/२०१०

चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर

तू किसी शोख़ का सिंगार कर रख भी दे ये ख़ामोशी उतार कर तीरगी ये पल में टूट जायेगी  चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर एक ही नहीं कई शिकायतें ...