Thursday, September 2, 2010

किस्तों में आया बचपन

किस्तों में आया बचपन
किस्तों में मेरी जवानी
कतरे लहू के टपके
आँखों से बन के पानी

किसने किया था सौदा
मेरी ज़िन्दगी का जाने
रद्दी में बिक चली है
ये उम्र के कहानी

ऐ दिल नहीं खबर थी
शहर का हाल ऐसा होगा
अब याद आ रही हैं
गलियाँ वो पुरानी

अपने बाद फिर ना होगा
चर्चा कहीं हमारा
इक सांस आखिरी फिर
ना होगी कोई निशानी

मुझको नहीं है फिर भी
शिकवा किसी से ऐ दिल
तकलीफ दे रही है
ये सांस की रवानी

नादाँ हूँ मैं शायद
मुझको खबर नहीं है
"चक्रेश" हो गया पागल
या दुनिया हुई दीवानी.....

2 comments:

संजय भास्कर said...

आपको और आपके परिवार को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

संजय भास्कर said...

वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर

तू किसी शोख़ का सिंगार कर रख भी दे ये ख़ामोशी उतार कर तीरगी ये पल में टूट जायेगी  चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर एक ही नहीं कई शिकायतें ...