एक चोट

फिर एक शून्य रख गया, जाता पल मेरी हथेली पर

एक सवाल

एक अनुभव

एक व्योम ...

नसों से रिस रिस कर कुछ खून

जमता गया समझ ki सफ़ेद परत पर

और धीरे धीरे

ह्रदय के कोने पथरीले होना शुरू हो गए ........

फिर एक शून्य रख गया,

जाता पल मेरी हथेली पर

एक सोच

एक मौन

एक चोट

जैसे खींच लिया हो झटके से किसीने

कोई बाल त्वचा का

एक tees के बाद सम्भलते रोम में

रह गयी है वेदना ki तरंग कोई

Comments

Your blog is great你的部落格真好!!
If you like, come back and visit mine: http://b2322858.blogspot.com/

Thank you!!Wang Han Pin(王翰彬)
From Taichung,Taiwan (台灣)
WELCOME
nilesh mathur said…
बहुत सुन्दर!
Anonymous said…
http://www.metro-nica.com buy cheap zovirax [URL=http://www.metro-nica.com/]buy generic zovirax[/URL] medicine zovirax buy cheap zovirax zovirax for yeast

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)