Friday, December 28, 2012

ठहरा कहाँ हूँ मैं


ठहरा कहाँ हूँ मैं मौज-ओ- हवा हूँ 
मुझे रोज़ मिलती हैं ढेरों विदायें 

हर देश में मेरे अपने कई हैं 
मौसम बदलते ही मुझे भूल जायें 

गाँवों की निबिया गुडिया की शादी  
शहरों के सर्चस क्या क्या बतायें ?

मंदिर की घंटी गिरिजा का लंगर 
मस्जिद की सीड़ी सब याद आयें 

हिन्दू कोई है, कोई है मुसलिम 
क्या जाने बुत ये किसने बनायें ?


-ckh

Friday, December 21, 2012

सीधी रेखाएं

एक शतरंज की बिसात 

एक  बहुत ही बड़ी शतरंज की बिसात 
इतनी बड़ी और इतने ऊंचे तख़्त पे रखी, 
के उसके एक कोने पे खड़ा एक छोटा बच्चा बाकी बाकी बचे तीन कोने देख ही नहीं पाता 
अपने असंख्य प्यांदों, हाथी, घोड़े, ऊंटों, वजीरों और राजाओं को कतार में खड़ा देखता रहा 
बच्चे ने  का  मन बना लिया और उचक उचक के बिसात देखने लगा 
अपनी तरफ के काले लकड़ी के प्यान्दों को धीरे धीरे आगे बढाने लगा 

सामने दूर कहीं - बहुत दूर - बैठा खिलाड़ी अपनी हर चाल पर केवल एक प्यांदा आगे बढाता रहा 
बच्चा  ये जानते हुए भी अपने कोने के मुहरों में मग्न रहा 
देखते देखते एक सफ़ेद प्यांदा - बहुत बड़ा प्यांदा - बच्चे की काले रंग की सेना के सामने आ खड़ा हुआ 

फिर एक बहुत बड़ा आदमी आया 
बच्चा केवल उसके पैर देख पाया 
वो आदमी बच्चे की तरफ से खेलने लगा और उसकी सेना को सुरक्षित करने लगा 

बच्चा गुस्से से तमतमा गया 
अपने दोनों हाथों की मुठ्ठियाँ कसने लगा 
दांत पीसने लगा 
और अपने हाथों को बिसात पे ऐसा फेरा के एक झटके में सारे मुहरें ज़मीन पे आ गिरे 

काले-सफ़ेद मुहरे 
आठ सफ़ेद प्यांदे 
आठ काले प्यांदे 
एक ही आकार के प्यांदे 
और  उनके साथ बाकी के सारे मुहरे 

खेल समाप्त हो चूका था 
बच्चा भीगी आँखों से ज़मीन पे बैठ कर 
गिरे हुए सारे मुहरों को 
एक डब्बे में रखने लगा 
फिर खड़ा  बिसात को उठता है 
और उसे अपनी कांख में दबा कर जाने जाने लगा 

बच्चा रुका, पलटा और उस आदमी से बोला - 
मुझे खेलना आता है 
तुम खेल नहीं समझे |


 

Monday, December 3, 2012

India – Where are you headed




Mirror mirror on the wall, what thou shall be if the wall hath a fall
                Democracy they say is to the people by the people for the people. We the people of India must take a break from our fast lives and halt for a while just to look back and forward asking few questions. Where are the people who were with us at the start of the walk that we set forward for after the tryst with destiny? Have we not walked these 65 years systematically leaving a lot many brethren behind, limping their way forward seeking help?
Trends
                Certain scholars today study intergeneration occupational mobility and try to see how amidst the phenomenal economic growth of our country, things have changed for the newer generations. Are they living in a better or different India? Are their occupations different from their fathers’ and fore-fathers’? Though there is a lack of data also making such studies for the women is difficult as in our society after marriage women start to live with the family of the husband, the scholars could present a trend that gives an approximate picture. The results of such studies show, that in rural areas the mobility is very poor and the sons of laborers end up as laborers, that of farmers end up as farmers and so on. In urban set ups since there are a variety of occupations available, the trend is slightly different. But the underlaying tone of all such studies is that – the rich is getting richer and the poor is getting poorer. Education is the major catalyst for change. Sadly, its penetration in our society has been superficial and whatever education reaches the rural areas is not quality education by any standards. The GDP share allocated for education and health has been abysmally low since independence, contrary to that set aside for defense.
                Such trends are definitely not a good sign for the health of our democracy. If a vast section of the society is getting too less of the growth then, as it has already started showing up, with passing time the growth itself will get de-railed.

Walking under the US Hegemony

                Recently we have seen our top leadership taking stringent and fast steps to clear the log jam in the economy by proposing to open up the market for FDI in single brand retail, insurance, cap LPG, hike in diesel prices etc. All done to improve the investor sentiments and wooing the sovereign rating firms who have the mandate to provide the investment whether report card of countries. Though such steps are important – or have become important in current scenario – one may ask how autonomous are we? Who decides our policies for us? Are the people happy with the decisions of their representatives? If not whose democracy is this?
Some argue that referendum can be a solution. Which again has its own limitations. Let say a policy decision is to be taken, then a panel of citizen society members can be made to draft the outline, float the draft for voting among a lakh or 2 lakh people. If they get majority votes in favor, then a country wide voting can be made thereby coming up with a policy that will suit all and the democratic values will get strengthened with every citizen feeling that he/ she is a part of the country’s decision making process. There are certain issues though. This might give rise to the problem of majoritism. Also voting can be made on Yes-No questions. Who shall make the questions? For example a 'yes' vote to the question “Do we need Foreign Exchange reserves?” cannot be taken as a ‘yes’ for FDI in retail. Then there will be campaigns to educate the people before voting. Who will jump into these campaigns? Definitely, deep pocketed corporate houses with vested interests. Such a model can easily fail as voting process in a 1.2 billion strong nation can be very tedious and a lot of tax-payers’ money will get spent just to know whether there is a general acceptance over an issue. Forget about the implementation part.
                The fact that we are contemplating on such solutions is sad, as it points to the failure of our representatives in gaining public support beyond the election votes they get. Had they been successful in presenting themselves as true representatives, there would have not been such a situation of mistrust. It is getting reflected in the outlook of our leaders, that corporate giants have a great say in policy making and we are not walking straight with our head held high, we are tilted towards the US today. From Nehruvian socialism, to Indira’s authoritative regime, we gently slipped into neo-liberalism which can easily make us enter the era of neo-imperialism.

Let’s be limited to Delhi approach

                The government is pushing forward Direct Cash Transfer scheme. Earlier it allowed civil society groups to come up, not to forget NGOs and SHOs and micro finance groups as well. Slowly and steadily the government has been taking a back seat allowing inclusion through participation. Now, a question arises is this an acceptance of the failure of the State in doing what it is ought to do and brushing aside responsibilities, asking others to come forward and fight the social mores and conflicts? Well, we can’t be against the government on this front. In a big country like India, participation of the people in their growth is very important. It is very crucial that the people are made empowered to fight their poverty.
                Technology, Aadhar cards, ICT and bank accounts put together do show rays of hope. We can overcome the problem of leakage of funds midway and minimize the corruption in the delivery channels. But let say a poor person has cash in his account, where will he go for health checkup or for education? Are their sufficient number of quality hospitals and medical practitioners and schools? How will he spend that money cannot be determined. In such a scenario, will Delhi have the knob in its hand through which it will be able to regulate the direction of our growth? Will it not happen that a group of people will grow towards prosperity and the rest left of their own with no responsible government to address their woes? Is the society today, with a great many people living a poor life and illiterate, ready for such a change? May be that is the situation already in place.

Conclusion

                All the cynicism presented above may be an anxiety that resists change. It might not be all that bad. Such changes might bring a new wave of all round development. But no one can deny that we have not developed our infrastructure considerably. We rely on foreign investments and technology too heavily.   We have not been able to harvest solar energy, also, technology for cost effective exploitation of our vast thorium reserves for energy needs is not in sight. Sovereignty can be safeguarded only if we make ourselves strong in all domains of development and energy sufficient.  We have sailed through the economic crisis of 2008 safely, but might not always and that would mean starvation of millions of poor in absence of State sponsored schemes which will have to be brought down in the name of austerity. We need a health checkup and promptly address to the basic problems instead of just making patches for the torn rags  of governance. To solve a problem, the problem must be accepted first. Just analyzing current crisis and working on its solution may lead us no where we need a long term goal and a long term vision to take us there. Above all, we need to know what our leaders have in their mind so that this atmosphere of mistrust fades away.

Sunday, November 18, 2012

फिर से वही कहानी



ये नया नया तजुर्बा ये नयी नयी निशानी 
मेरी जिंदगी सुनाये फिर से वही कहानी

तन्हाइयों ने घेरा आकर के उस घड़ी में 
 जब ढूढती थी आँखें यारों की निगेहबानी 


मैं जानता हूँ इक दिन बदलेंगे सब नज़ारे
महफ़िल में जल उठेंगी गज़लें मेरी पुरानी 

जिनको नहीं ख़बर थी हालात की शहर के 
वो पूछते थे मुझसे आँखों में क्यूँ था पानी 

उठकर चला था जब मैं दुनिया को ही बदलने 
उस पल से ही हुयी हैं गलियाँ सभी बेगानी 





Wednesday, November 7, 2012

के शायद जिंदगी है यही


इश्क ऐ दिल तुझे न रास आएगा 
तू फकत धड़कनें सुनाता चल
गैर बनते हैं सब रफीक अपने 
तू मुसलसल उन्हें भुलाता चल 

माँ के आंसूं जो दर्द देते हों 
सिसकियाँ घर की गर न जीने दें 
आँख में गर्मिए-लहू हो अगर 
ज़िन्दगी जख्म को न सीने दे 
ऐ मेरे दिल तो तू ये कर लेना 
मुसकरा कर के दर्द भर लेना 
दौड़ के छू लेना आसमानों को 
सारी कायनात अपनी कर लेना 

पर न रोना एक भी कतरा आंसू 
न कहना किसी से क्या गुज़री है 
जप्त कर लेना गेम-ऐ-हस्ती 
ठोकरों में रख तमाम बातों को 
कह देना के जिंदगी हसीं सी है 
और इस जैसा कुछ भी तो नहीं 

न कहना ऐ दिल के क्यूँ जिन्दा हो 
क्यूँ नहीं खुद से तुम शर्मिंदा हो 
न कहना के जला लो तुम अपनी हस्ती 
और न देखो ख्वाब जन्नत के 
न कहना ऐ दिल किसी से ये 
के मैं इतना ज़रूर जानता हूँ अभी 
के कहीं किसी छोटे से कस्बे  में 
एक खूबसूरत सी नन्ही बच्ची है 
जो सुन रही तेरी बातों को 
जो तुझे खुदा समझती है 
सोच उसपर के क्या गुज़रेगी
वो जो नेहर को नदी समझती है 
उसकी कागजा की नावें डूब जायेंगी 
और वो फिर कभी न नांव बनाएगी 
जब पतझड़ में सब फूल मुर्झा जायेंगे 
वो सावन से रूठ जायेगी 
उसकी तब आस छूट जायेगी 
ऐ मेरे दिल तू सब सह लेना 
जिंदगी के ज़हर को हंस के पी लेना 

न कहना के ख्वाब टूट जाते हैं 
देखते देखते रिश्ते छूट जाते हैं 
न कहना के दोस्त सब हैं मतलब के 
न कहना के सबपे है वही जादू 
और कोई भी न इससे बच पाया है 
तू जिसे जिंदगी समझता है 
क्या पता वो इसी को कहते हों 

ऐ मेरे दिल तुझे इश्क रास न आएगा 
तेरा हर चाहने वाला तुझसे दूर चला जाएगा 
दर्द फिर और भी तुझे सताएगा 
तू जी नहीं पायेगा 

Wednesday, October 24, 2012

सहस्त्र अनुभूतियाँ


मैं धीरे धीरे पंख फैलाने लगा
मैं आज़ाद हूँ 
मैं आज़ाद हूँ 
अब फिर से कई बरसों के बाद 

न चाह है के कुछ कहूं - कुछ सोचूँ 
न सवाल हैं, न दुःख,  न दर्द 
न रही चाह दूर टहलते जाने की
दूर अपने सच से कहीं दूर निकल जाने की
न चाह रही किसी और से सहमति पाने की
सामंजस्य बनाने की

मैं आज़ाद हूँ 
अब फिर से कई बरसों के बाद

शांत हूँ, मौन हूँ, खुश हूँ 
मैं - मैं में पूरा हूँ 
अब मैं अधूरा नहीं 

मुझसे जानना चाहोगे के जिंदगी क्या है ?
तुम यहाँ क्यूँ और तुम क्या हो ? 

मैं जानता हूँ तुम नहीं मानोगे 
पर मैं बतलाता हूँ 
तुम मैं हो 
मैं तुम हूँ 
यहाँ कुछ भी दो नहीं 
केवल एक है 

एक शून्य, एक व्योम, एक दूर तक फैला विस्तृत आकाश

नहीं मानते हो न ?
मैं जानता हूँ तुम नहीं मानोगे 

तुम लड़ोगे हर तर्क-वितर्क से 
बुद्धि तुम्हे सोचने नहीं देगी 
तुम नहीं मानोगे


मैं आज़ाद हूँ 
मैं देखता हूँ 
एक बाज़ार - दुकानदारों का, खरीदारों  को और भिखारियों का 
राजाओं का, रंकों का, सेनापतियों और संतरियों का 
खबरों का, चर्चाओं का, सोच का विचार का 
एक जंग - अहम् की, एहंकार की, द्वेष की, अपनी - पराई
एक निरंतर गोल गोल घूमता पहिया 
कोल्हू का बैल, अपनी दुम को पकड़ता एक कुत्ता 
मैं देखता हूँ 
एक दोस्त, एक दुश्मन, एक दंगा, एक आग, एक चीखता बच्चा 

पर मानोगे मेरी बात
यहाँ दो कुछ भी नहीं 

सब पर्याय है यूँ समझो 
एक ही शब्द के 
एक ही अर्थ है 
एक ही आशय है 

तुम मैं हो
मैं तुम हूँ 
मैं आज़ाद हूँ
मैं देखता हूँ
मैं उलझता नहीं 
इस बाज़ार में 
इस छीटाकशी में 
इक तर्क-वितर्क के घेरों में
इस अहंकार - जनित माया में 

मैं गीता से परे हूँ
मैं केशव वचनों से परे हूँ
अनछुआ हूँ
महाभारत के मैदान में उठती धुल में
श्वेत-वस्त्र में साफ़ सुथरा हूँ
कटते गिरते शरीरों के बीच हँसता हूँ
खुश हूँ

तुम नहीं मानते न 
के तुम मैं हो मैं तुम हूँ

चलो यूँ समझो 
के कुछ भी नहीं 
न डरती न सूरज एंड अम्बर अन व्योम न जीवन न मरण न पत्थर न देवता 
न हंसी न ख़ुशी न दुःख न सुख न रिश्ते न नाते न उम्र न समय 

कुछ न होना कुछ होना है क्या ?

बुद्धि को रोक सकते हो इस शून्य में ? नहीं न ..
तर्क हैं वितर्क है 
सोच है सब कुछ तो है 
तुम हो तुम्हारा नाम है 
तुम्हारी पहचान है 
फिर कुछ कैसे नहीं ?

संभव कहाँ है तुम्हारे लिए ऐसे शून्य में ठहर पाना ?
तुम तो बाध्य हो अपनी प्रकृति से सोचने के लिए, बंधने के लिए एक पहचान में, एक नाम में एक स्वरुप में
तुम आज़ाद कैसे होगे कहो ?

नहीं समझते न 
जब मैं कहता हूँ 
के तुम मैं हो 
और मैं तुम हूँ 

यहाँ कुछ भी दो नहीं 
एक ही अर्थ है 
एक ही आशय है 
एक ही कविता है 
एक ही गीत है 
एक की चित्र है 
एक ही दर्शक है 
एक ही श्रोता है
एक ही चित्रकार है 
एक ही सत्य है 
एक ही असत्य है 
एक की निर्वाण है 
एक ही मोक्ष है 
एक ही आस्तिक है 
एक ही नास्तिक है 
एक ही भगवन है 
एक ही इंसान है
एक ही दैत्य है 
एक ही असुर है 
एक ही पहाड़ है 
एक ही नदी है 
एक ही तालाब है 
एक की कंकर है 
एक ही लहर है 
एक ही सूरज है 
एक ही शाम है 
एक ही शराब है 
एक ही साकी है 
एक ही हिंदी है
एक ही उर्दू है 
एक ही कवी है 
एक ही शायर है 
एक ही मैं हूँ
एक ही तुम हो

तुम मैं हो
मैं तुम हूँ

कहो कितने बड़े हो तुम अब 
अपने शरीर जितने ?
क्या उम्र है तुम्हारी 
दो तिथियों के बीच गणित का खेल ?
कितना जी पाए हो अब तक
कितने जीने की है इक्षा कहो ?

मानते हो मेरी बात ?

समझते हो क्या तुम 
मैं जो कह रहा हूँ?

नहीं न ?

चलो जाने दो...
फिर पढना मुझे 
फिर कभी
किसी और दिन
अभी तुम तुम हो 
तुम मैं नहीं ...

तुम आओगे एक दिन
मैं जानता हूँ
स्वेत वस्त्रों में 
युध भूमि में जय-पराजय को रख कर अपने पीछे
हँसते हुए
तुम्हारे वस्त्रों पर कोई दाग नहीं होगा
तुम आज़ाद होगे
तुम मैं होगे
मैं तुम हूँगा

ये होगा मैं देखता हूँ

इतना ही होना है क्यूंकि

इससे ज्यादा कोई अर्थ नहीं है 
आशय नहीं है 
इस काल चक्र का 

यहाँ सब कुछ एक ही है 
और एक में ही सिमट रहा है ...


कितनी पंक्तियों  की ये कविता कहो ?
खाली पन्ना ही तो है ...

----------------------------
- ये तुम्हारी कविता है 

Monday, October 22, 2012

भागते भागते भागते भागते भागते भागते


जागते जीवन का एक एक पल भागते भागते भागते भागते भागते भागते बीत रहा है
अंतिम घड़ी ये दौड़ तड़पायेगी मैं जानता हूँ

ये सवाल उठाएगी
के क्यूँ भागे

क्यूँ नहीं किसी पहाड़ी पर खड़े होकर
नीचे बहती नदी में कंकड़ फेंकते हुए जिंदगी बिताई

क्यूँ नहीं सागर किनार हर शाम डूबते सूरज
के रंगों से आँखों को जी भर रंग जाने दिया

क्यूँ न शोर से दूर कहीं अकेले निकल सके
इक भागा दौड़ी का हिस्सा तुम क्यूँ बने कहो

मैं जानता हूँ ये दौड़ सवाल उठाएगी
और मैं इतना ही कह सकूंगा के
-
जीवन की आप धापी में कब वक़्त मिला कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूं जो किया कहा माना उसमे क्या बुरा भला

मृत्यु




टूट गयी जीवन की डोरी 
मेरे प्रिय एक साथी की
मैं प्रतिमा बनकर के देखूं
सीमाएं मानव जाती की

Friday, October 19, 2012

एक लैंप पोस्ट दबी ज़ुबान में



सर्द रात सुनसान सड़क पर
घनघोर अंधेरों की थी जब चादर
एक लैंप पोस्ट दबी ज़ुबान में 
अपना अस्तित्व बताता था 

पूर्वा के ठन्डे थप्पड़ से
जब मुरझाईं कलियाँ कपास की 
खेतों में जब मातम था तब
एक लैंप पोस्ट दबी ज़ुबान में 
अपना कुछ दर्द सुनाता था

गाँव को जाती सूनी सड़कों पर
कुछ छीटे थे लाल खून के 
किसी किसान की मजबूरी पर
एक लैंप पोस्ट दबी ज़ुबान में 
कुछ कह कर के चुप हो जाता था

-ckh

Tuesday, October 16, 2012

मेरी सूरत मेरी तस्वीर में पहले सी क्या होगी

मेरी सूरत मेरी तस्वीर में पहले सी क्या होगी 
दीवारें नम रहीं बरसों तो क्यूँ ना ग़म-ज़दा होगी 

बेहकता है बेहकने दे उदू को कुछ शिकायत है 
जो रोकूँ गर मैं पीने से तो ये भी तो खता होगी 

अभी उस शख्स की यादों को मेरे दिल मुल्तवी कर दे
अगर खूरेज़ हुआ फिर से तो तेरी क्या दावा होगी 

तेरे दर से चला था सोच कर के भूल जाऊंगा
नहीं सोचा था शिकायत भी तुझे से बारहा होगी

चलूँ पीछे मैं राहों पे इसी उम्मीद में "चक्रेश"
कहीं बैठी मेरी किस्मत मुझी से कुछ खफा होगी

-ckh

(not in meter)

Tuesday, October 9, 2012

आइये, बैठिये, कुछ बात करें


आइये, बैठिये, कुछ बात करें| 

अक्सर जीवन में ऐसा भी होता के चलते-चलते हम कुछ ऐसे पडावों पे आ पहुंचाते हैं जहाँ कुछ कहना भी दुश्वार सा हो जाता है| जो सोचते हैं वो कह नहीं पाते, जो कहते हैं वो कुछ ऐसा होता है जिसे सुनकर सुनने वाला बिदक जाता है| ऐसा भी होता है के जी करता है कुछ समय के लिए मौन रख लिया जाए|  ग़ालिब का एक ह्रदय-स्पर्शी शेर है - रही न ताकत-ऐ-गुफ्फ्तार और अगर हो भी, तो किस उम्मीद से कहिये के आरजू क्या है| ताकत-ऐ-गुफ्फ्तार का आशय बात करने की ताकत से है|

अभी कुछ दिंनों पहले की ही बात है अपने एक बहुत पुराने मित्र से मैंने भावुक होकर कहा के, 'जीवन समझ में नहीं आता, हम कुछ क्यूँ करते हैं और न करें तो आखिर क्या करें? क्या यह कैद नहीं है, हम सब बंधे हुए हैं प्रकृति के नियमों से? उतना ही देख सकते हैं जितना कि आँखें देखने दें| उतना ही समझ सकते हैं जीतनी दूर हमारी बुद्धि हमें लेकर जा सके'| मैं अभी  मूल भाव तक पहुँचाने कि कोशिश में था के उसने मुझे टोकते हुए कहा के मैं बहुत सोचता हूँ और इन बातों को कोई मतलब नहीं है| दो पल को ऐसा लगा के 'हमजुबां मिले तो मिले कैसे?' किसके कहो और कैसे कहो| या यह संकेत है के अब मौन रखने का उचित समय आ चूका है|

आज विभिन्य टी.वी. चैनलों पर भांति-भांति के कार्यक्रम आते हैं| मैं अक्सर टी.वी. की आवाज़ बंद करके बस चैनल बदलता रहता हूँ| कहीं गंभीर मनो-भाव के अपनी बातों को ज़ोर देकर रखते समाचारक हैं, तो कहीं रियेलिटी शो के मंच पर थिरकते, गाते, मुस्कुराते और मानो जीवन से बेहद खुश कलाकार, कहीं विदेशी मूल के पर्यटक जंगलों की तसवीरें उतारते तो कहीं तेज़ रफ़्तार गाड़ियां आपस में दौड़ लगाती| कहीं बात-चीत है, कहीं प्रवचन है, कहीं छाती पीटते बाढ़-प्रवाहित, कहीं कॉमेडी शो के ठहाके| जीवन के इस छोटे से सफ़र में क्या नहीं है!
 
क्या आशय होगा इन सब का? जीवन कदाचित कुछ भी नहीं पर है|  बुद्धि के व्यायाम हमें सोचने पर मजबूर कर देते है और उसी बुद्धि का एक सीमा से बहार न जा पाने की शक्ति हमें वापस अपने यथार्थ में खींच लाती है| इसी उहा पोह में कवितायें जन्म लेती हैं| अभिव्यक्त होने की अकुलाहट कुछ लिखवा जाती है| कविताओं को भी संगृहीत कर के जब पढता हूँ तो वही टी.वी चैनलों की भांति एक विविध दृश्य सामने दिखता है| अभिव्यक्ति की अपनी क्षमताएं हैं एक सीमा के बाद मौन ही उत्कृष्ठ लगने लगता है| जो हम सोचें यदि वो कह सकें, जो हम सोचें वो यदि वही हो जो हमें वास्तव में छू रहा हो और इसपर ये भी के सुनाने वाला वही समझे जो हमें कहना हो, तो फिर बातचीत का कोई अर्थ है अन्यथा नहीं| 

इक लेख को यहाँ समाप्त कर दूं या कुछ लिखी ये भी एक प्रश्न उठ रहा है| मुझे लगता है के मैं जो कहना चाह रहा था वो कह चूका हूँ सो और खींच-तान ठीक नहीं होगी, बाकी पाठक पर छोड़ता हूँ|


-ckh

Wednesday, August 29, 2012

आसमाँ को भी कद अपना दिखायेंगे हम


आसमाँ को भी कद अपना दिखायेंगे हम 
दिल का अरमाँ है क्या ये बतायेंगे हम 

पहले जैसी नहीं जिंदगी भी तो क्या
दिल में जज्बा तो है जीत जायेंगे हम 

देखते देखते देखो शब् कट गयी 
अगली सुबहो तलक गुनगुनायेंगे हम  

कल तो बारिश में डर भीग जाने का था 
आज फौलाद हैं भीग जायेंगे हम 

एक नया सा सबक जिंदगी दे गयी 
अब तो मरते हुए मुस्कुरायेंगे हम 


Friday, August 24, 2012

The Quiet One


                
The Quiet One

by Chakresh Singh


                “You might be thinking why I eat my lunch alone. I wish I could tell. Have you ever seen my lunch box, the white one? On the top of it is a picture of a boy, sitting in the sun under a tree with his back reclined on its trunk. But that is only the half of the picture. In the other half there is some English poem written in a miniature text. One surely can’t read it with naked eyes but it must be a beautify poem I am sure. You wanted to know why I keep quiet, it is because I believe there is a heaven beyond this classroom and there are plenty of trees unlike our school. I believe, there is a place where the day is bright and the shade of trees very thick and dense. I eat alone because I think of such a place my friend and I wish I were there. “

                It is not that anyone thinks like that about my being so aloof in the class, it is just that I talk to myself all the times and I give elaborate speech in my head to the imaginary kids I know. Those in real life are not so submissive I must say. They won’t bow their heads and stand in absolute reverence to listen to my flights of imagination. They are energetic, fun loving and somewhat stupid kids of real parents. They are dumb as well, I guess. For why will they take every instruction of every teacher who comes and teaches us with no resilience what so ever? I am not like them. On the very first day at school, I chose the last bench on the side of the window in the classroom. From here I see the cycle shop outside our school building and every hour, new faces coming with their bicycles and getting them mended or filling air in the flattened tubes. From here I can wonder in the boundary-less fields of my imagination. From here I can skip the mundane classroom activities of making and taking notes.

                It has been so for many years now. When I was in the Nursery sections, I was no different. Now I am in Middle section, still I am the same. Sometimes I feel, in doing all this what if I do not grow up ever? What if my imaginations mean nothing in the end of the school? Will it be so that the boring topper of our class, get into a good college and I won’t be able to get admission any where? Aah! Leave it. Why to think about all that? After all, those who get into colleges after school are humans only and they can’t be better than me. While I was busy in exercising my democratic-fundamental right of free thinking, our squeaky English teacher notices me being lost somewhere and looking from the open spaces of spectacles and face utter the following unpleasant and more than that very disrespectful words for a respected President of America who just finished a speech in the house of the commons: “Sid, are we on the same page?” “What page?” I was about to ask, but I knew it’s better to concentrate in reality for a change. “Yes, ma’am. Its page number 26!” The whole class roared into laughter. I realized she was not asking the page number, but asking whether I was listening to her all this time. “Aah! The third squeaky daughter of holy St. Aloysius!”, I said to myself. The first two being the Chemistry and the Drawing teachers. All three kept together make a perfect recipe comic drama of the seventeenth century English Literature. They bring these unheard phrases and try to mock the intelligence of the best brains in the classroom. But she wasn’t as good as me this time. I have master a skill of knowing what is going the classroom even while being deeply lost in my own world. It’s is a hard work of years I must say. “Ma’am you were taking about how Sindabad the sailor, left for the un-in habitat island of jewels and there he found himself surrounded my numerous poisonous snakes. He slips into a cave and waits for the night.” There was certainly something missing in my explanation and the whole class was willed with laughter once again. “Quiet!”, she roared. “Sid, if you are not interested in what is taught in the class why don’t you leave and go outside and roam around?” It’s funny these teachers make interrogative sentences and expect no answers to them. I wished I could ask happily, “Are you serious!” But I knew this witch. She would hang me upside down if I utter a single word now. She was visibly disturbed. Her ego was hurt. After all, my story was more interesting that the one written in the book. I knew she was jealous of my literary genius. The whole class for silent for thirty minutes of her lecture and just a few seconds of my speech made them enjoy the time and laugh like they naturally should. “Next time I catch you, only God can save you!”, she warned and asked to sit down. “God! Lift her please”. Though I am an ardent atheist but in the moments of utter despair even the best of the best atheists lose their religion. This I read in a Hindi novel, it was a hilarious thought but I experience it every now and then.

                There were few broken chalk pieces laying near my feet below the desk. For the rest of the fifteen minutes of her lecture, I wished I could pick those pieces and one by one hit her face with them, making perfect aim all the time. I kept biting my lips with my teeth, as I often do in anger. How can someone infringe in my private life and disturb me and that too with so much authority! I hate being so weak in real life. Anyhow, time passes by. The ringing bell softened my heart to some extent. When she was gone, Atul came to me and said, “Sindabad, on an un-in-habitat island! What a story mate! Where did you get that?” we laughed. I said, “chal sussu kar kea ate hain”. It’s not that I was willing to pee, but the next class was of Social Studies and wanted to skip the first ten minutes the same old, “India is a vast country”, kind of lecture.

                Atul has been a great friend all these years. He knows me very well. In our age everyone knows everyone very well. But he is a close friend. He always gets good grades in all subjects. I get good grades in subjects of my choosing. I love Mathematics, and I always get highest score in Mathematics in every examination right from the first class. Except for once, when I had small pox and I left section B of the question paper completely. I still think of that day and feel sad. Atul, knows that I am good in studies, I just do not put effort to do well and get my due respect in the class. Every year some new teachers come to teach and every year they make new perceptions about the kids. I have a reputation tough. Even the Principal knows that I don’t like to be in the classroom for long. Father, we call him. In his white robe with a short stick he was in the gallery of the third floor, when he saw me with Atul. “Yes, you two, why are you roaming here? Don’t you have class?” he asked pointing his nose towards us. I took the lead and walked in front of Atul and said, ’Good morning Father. We were going to the bathroom”.  “Quick quick, hurry to your class room. Quick” is all he said and allowed us to wander for a little more time, while the rest if the class was getting submersed into the discussions of renaissance of France. We took a lazy walk to towards the end of the corridor. Looking inside class 7th B first door and then two windows and then the hind door, followed by class 8th A first door, two windows and then the hind door.  I kept looking at the faces of the helpless students in all the classes that came across our walk. Helpless, weak, submissive kids I thought. “Hey Sid, I kept a chewing gum the teacher’s chair today.” Alut told me. We laughed. “Persia will look really sticky today”, he said and we laughed even more. The hind of our History teacher was disproportionately large. Once he was writing on the board something about Persia and looked back to ask Zafer, what was he laughing at? Zafer later told us, he was laughing at Persia of Mr.Siddique. Since then Persia came into picture. The joke has spread in the senior sections as well and now the whole school knows, where was Persia.

                After about ten minutes we reached our class, we were allowed to enter without any question. I went back to my seat in the back benches and Atul, took his middle row seat. All the time we kept exploring the fields of Persia and could not find the sticky gum any were on the map. Atul kept looking at me, all puzzled and I kept feeling disappointed. After the class was over, somebody told that he did not sit.

                It was lunch time now. I once again remained in class while the rest left for play. I kept thinking of the fields and the poem. Every day, I try to read it and fail. With regular brush of the tiffin box, while cleaning it, a fair portion of the picture has faded away. Mummy asks if I need a new lunch box, a steel one, I deny every time. I do not want anything else on earth but to read the poem that is written on it. The smell around the place of my imagination, and the poem as if dripping from the tree leaves as honey, is all I want to live with. No matter how notorious and at time ugly I get in my class room mischievous, I have a tender heart of the same nursery kid, who used to look out the school walls and think there is a place better than this.

                The pickle, the parantha, and the alloo ki sabzi is what I generally bring in lunch. Many friends bring bread, butter and jam. But I do not like bread. I do not like paranthas as well, but they are better than rotis. I eat very slow and leave the most of the lunch, only to go home and listen to the same old concern of mummy, “how will you grow strong if you do not eat?” I feel, for a person like me, who lives in a fantasy world all the time, what use is muscles and strength. For who do I need to fight? And after all, I want too less. I just want to know what that poem says.
               
  …..to be continued

               

                

गिनती है सांस जिंदगी पल पल उधार है


गिनती है सांस जिंदगी पल पल उधार है 
हमपे भी कर-गुजरने की कुछ ज़िद सवार है 

बारिश में भीगते रहे बेरोक टोक हम 
उनको तो छींक आ रही हमको बुखार है

दिल में रही खलिश जो था इक तीर-ऐ-नीमकश 
अफ़सोस अब यही के वो भी आर पार है 

Monday, August 20, 2012

मानव शरीर और जीवन चिंतन


         मानव शरीर में रहते हुए कुछ अनुभूतियाँ स्वतः ही होती रहती हैं| जीवन जीने की कला सीखने और नए अनुभवों को प्रयोग में लाने का क्रम चलता ही रहता है| हर नए साल का सावन जैसे हमें नया कुछ सिखाने को  दाइत्व समझ अत है, उम्र बड़ा जाता है| प्रायः हम सब कुछ जानने वाले होने की भूल कर, अपने आप नको नयी नयी विषमताओं में खड़ा करते रहते हैं| हम कौन हैं और इस शरीर को हमें किस प्रकार से प्रयोग में लाना है, एक बड़ा सवाल है| एक दूसरा बड़ा सवाल ये भी उठता साथ ही साथ उठ खड़ा होता है के जीवन अस्तित्व का प्रयोजन क्या है और किसकी मंशा है हमारे इस स्वरुप में होने के पीछे| इन प्रश्नों की परिधि पर फेरे लगता, आत्मा चिंतन में लीन हर बौधक व्यक्ति कई बार एक ही प्रकार के अंतर द्वंदों से जूझता हुआ जीवन बढ़ता जाता है|

                 मेरा मत है की प्रकृति में विभिन्न प्रकार के तत्त्वों का समागम है| हर तत्त्व प्रकृति को उसका स्वरुप देता है| हर तत्त्व, चाहे वह कोई छोटा सा पत्थर हो या फिर विशाल सी पृथ्वी, प्रकृति के अस्तित्व के लिए बहार का महत्व रखता है| और फिर देखा जाए तो छोटा और विशाल भी तो हम मानवों के मानने भर का फेर है बस| प्रकृति कभी भी अपने आप को स्वरुप देने वाले तत्त्वों में भेद भाव करती नहीं दिखाती| एक छोटी सी चींटी कर्म योग को जिस एकाग्रता से निभाती है, देखते ही बनता है| एक झरना जिस सौम्यता को अपने भीतर दबाये, एक मर्यादा में रह कर झरता है और प्रकृति में एक रंग भरता है, जिसे देख कर हम मानव आनंदमय हो जाते हैं, भी अपने आप में प्रकृति के अनेक नियमों को जीवंत करता है|

             मानव शरीर में रह कर कई बार हम चिंताओं से घिर जाते हैं| चिंता, जिसे जैसंकर प्रसाद जी कामायनी में एक जगह, 'अभाव की चपल भालिका कहते हुए' ये कहते हैं के: 
"मनन करवाएगी तू कितना ?
उस निश्चिन्त जाती का जीव; 
अमर मरेगा क्या? तू 
कितनी गहरी डाल रही है नींव"| 
            चिंता का कई बार असल कारन जान पाना, एक साधारण मनुष्य के लिए असंभव सा हो जाता है| चिंता से दुखों की दूरी ज्यादा नहीं होती| दुःख जीवन को अर्थहीनता की राह पर  धकेल देते  हैं|

           जीवन एक शूक्ष्म डोर है और यदि इसके दोनों सिरों को ध्यान से न पकड़ा जाए तो इसमें गांठें पद जाती हैं| तनाव के साथ ये गांठें और भी मजबूत होती जाती हैं|सही मार्गदर्शन, चाहे वह किसी गुरु से मिले या फिर अपने द्वारा की गयी तपस्या के फल स्वरुप जीवन अनुभव बन कर आये, जीवन को सुन्दर स्वरुप दे सकती है| यदि मानव के दुर्लभ शरीर में रह कर सृष्टि के गुड़ों का बोध  कर पाने में हम असक्षम हैं तो कहीं न कहीं बदलाव की आवश्यकता है|

         जीवन को नए दृष्टिकोण से देखना होगा| शरीर एक प्राकृतिक उपकरण  हो सकता है लेकिन जड़ता का स्वामी नहीं| जो जीवित है वह शरीर अवश्य है, परन्तु की अभिप्राय से यह इस स्वरुप में, इन इन्द्रियों के साथ जीवित है, वह अभ्प्राय किसी आवरण से ढाका हुआ है|इस आवरण को हटा कर साफ़ सुथरी समझ तक पहुँचाना की बुद्ध होना है|

               यह आभास होता है के जीवन का अभिप्राय जीवन आनंद से है|आनंद का अनुभव सतत मनन से संभव है| जितना ही हम बाह्य दुनिया में सम्मिलित होंगे उठाता ही हम अपने आप को बंधनों में बांधते जायेंगे और परिस्थितियों के अधीन होकर हर क्षण स्वयं को एक बेड़ियों से जकडे हुए कैदी सा पायेंगे| कैद में रहने से गुस्सा, निराशा, घृणा, अकर्मता आदि नकारात्मक शक्तियां हमें घेर लेंगी और जीवन-आनंद के अनुभव के दुर्लभ अवसर से हम अपने जीवन काल में वंचित रह जायेंगे| 

               परन्तु समाज में रहकर मोह बंधनों में न बंधने की कला कोई आसान कला नहीं है| हमारा मानव शरीर अपनी शक्ति से ओत-प्रोत होकर कई बार शांत-चित्त मन को उद्द्वेलित करता है और उसके जीवन जानने वाले होने पर ही प्रश्न चिन्ह लगा देता है| वह भला यह कैसे मान ले के जीवन आनंद सही मायनों में वही है जो एक मनन में लीं आत्मा अनुभव करती है? क्यूँ न रिश्ते-नातों से उपझते प्रेम बंधनों में रम कर जीवन-आनंद का अनुभव किया जाए? 

               मन की चंचलता ऐसे ही कई और प्रकार के मतों तक चेतना को भ्रमण पर ले जाती है और विक्रम-बेताल के इस खेल में दृढ निश्चय के साथ चल रहे विक्रम को अपनी बीताली बातें मनवा कर दोबारा उसी अज्ञानता के अरण्य में छोड़ आती है जहाँ से निकल कर वह काफी दूर चला आया था| 

चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर

तू किसी शोख़ का सिंगार कर रख भी दे ये ख़ामोशी उतार कर तीरगी ये पल में टूट जायेगी  चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर एक ही नहीं कई शिकायतें ...