वक़्त के हौसले भी कोई कम नहीं

वो मुझे छोड़ कर दूर जाने लगा,
एक गुज़रा समाँ याद आने लगा;
 
सर्द रातें तूफानी रुलाने लगीं,
और दिल ये फ़साने सुनाने लगा;
 
जख्म गहरे थें सारे मगर ऐ खुदा,
सोच उनको मैं दामन छुपाने लगा;
 
इतने पर भी मैं जिंदा खड़ा था मगर,
मेरा साया आईना दिखाने लगा;
 
खौलता है लहू और उठता धुवाँ,
लाल आँखों में अँधेरा छाने लगा;
 
वक़्त के हौसले भी कोई कम नहीं,
हर कदम पर मुझे आजमाने लगा;

Comments

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)