Tuesday, February 7, 2012

और मत पूछना तबीयत को

और मत पूछना तबीयत को, बेवजह नाम याद आयेंगे..
फिर सजाओगे महफ़िलें जब भी, टूटते जाम याद आयेंगे

देखें किस लहजा दगा मिलता है, मेरे पीछे रकीबों तुम्हे
जब कभी जिक्र-ऐ-उल्फत होगाफ़क़त अंजाम याद आयेंगे

No comments:

चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर

तू किसी शोख़ का सिंगार कर रख भी दे ये ख़ामोशी उतार कर तीरगी ये पल में टूट जायेगी  चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर एक ही नहीं कई शिकायतें ...