आप के पहलू में दिन गुज़र जाता है

आप के पहलू में दिन गुज़र जाता है
मेरा बिखरा सा दिल भी संवर जाता है

कुछ निगाहों में है आप की ऐ हुज़ूर
देख नश्तर जिगर में उतर जाता है

कैसे छोड़े भला अब मैनोशी कोई ?
आप का ज़िक्र है रिंद जिधर जाता है


Comments

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)