घर

अपनी अपनी किस्मत थी,
अपने अपने फैसले ..
जिंदगी तो बारहां ,
दरवाजे खोलती रही ;

अपनी अपनी चाह थी,
अपनी अपनी राह थी ..
जिंदगी  तो बारहां,
सच ही बोलती रही ;

-ckh-

Comments

expression said…
very beautiful..............

anu

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)