जीवन - स्वप्न


क्षणभंगुर इक स्वप्न 
असीमित आलौकिक उस दिव्य शक्ति का 
परम सत्य विज्ञान सिखा 
मानव - जीवन से विरक्ति का 
अभी अभी दो खुलती पलकों पर 
छूमंतर हो भगा है
देखो किसी के घर में कोई
नन्हा जीवन जागा है!

 -ckh-

Comments

expression said…
बहुत सुन्दर!!!!!!!!!!

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)