आईना तू ही पराया क्यूँ है


आईना तू ही पराया क्यूँ है 
दाग चेहरे पे लगाया क्यूँ है 

ऐ शमा तूने उजाले तो किये 
पर मेरे घर को जलाया क्यूँ है 

ऐ खुदा ख़ाक ही हो जाना है  
फिर मुझे  तूने  बनाया क्यूँ है 

-ckh-

Comments

expression said…
बहुत कुछ है आपके जिम्मे.....इसलिए खुदा ने आपको बनाया है..
:-)

सुन्दर रचना.

अनु

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)