काबिल-ऐ-गौर


काबिल-ऐ-गौर हैं मेरी सांसें 
मैकदे छूट गयेंये ना छूटीं
आज भी आती हैं ये जाती हैं 
ख्वाब तो रूठ गयें, ये ना रूठीं 



चाह कर भी न कह सके उनसे
वो मेरी बेबसी पे हँसते थें 

वक़्त खामोश कर गया उनको 
जो मेरी दिलगी पे हँसते थें

--saving for future--

Comments

expression said…
बहुत खूब.....
सुन्दर कविता....

अनु
chakresh singh said…
thanks anu ji.....ye dono hi adhoori teh gayeeN ....

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)