Posts

Showing posts from December, 2012

ठहरा कहाँ हूँ मैं

ठहरा कहाँ हूँ मैं मौज-ओ- हवा हूँ  मुझे रोज़ मिलती हैं ढेरों विदायें 
हर देश में मेरे अपने कई हैं  मौसम बदलते ही मुझे भूल जायें 
गाँवों की निबिया गुडिया की शादी   शहरों के सर्चस क्या क्या बतायें ?
मंदिर की घंटी गिरिजा का लंगर  मस्जिद की सीड़ी सब याद आयें 
हिन्दू कोई है, कोई है मुसलिम  क्या जाने बुत ये किसने बनायें ?

-ckh

सीधी रेखाएं

एक शतरंज की बिसात 

एक  बहुत ही बड़ी शतरंज की बिसात  इतनी बड़ी और इतने ऊंचे तख़्त पे रखी,  के उसके एक कोने पे खड़ा एक छोटा बच्चा बाकी बाकी बचे तीन कोने देख ही नहीं पाता  अपने असंख्य प्यांदों, हाथी, घोड़े, ऊंटों, वजीरों और राजाओं को कतार में खड़ा देखता रहा  बच्चे ने  का  मन बना लिया और उचक उचक के बिसात देखने लगा  अपनी तरफ के काले लकड़ी के प्यान्दों को धीरे धीरे आगे बढाने लगा 
सामने दूर कहीं - बहुत दूर - बैठा खिलाड़ी अपनी हर चाल पर केवल एक प्यांदा आगे बढाता रहा  बच्चा  ये जानते हुए भी अपने कोने के मुहरों में मग्न रहा  देखते देखते एक सफ़ेद प्यांदा - बहुत बड़ा प्यांदा - बच्चे की काले रंग की सेना के सामने आ खड़ा हुआ 
फिर एक बहुत बड़ा आदमी आया  बच्चा केवल उसके पैर देख पाया  वो आदमी बच्चे की तरफ से खेलने लगा और उसकी सेना को सुरक्षित करने लगा 
बच्चा गुस्से से तमतमा गया  अपने दोनों हाथों की मुठ्ठियाँ कसने लगा  दांत पीसने लगा  और अपने हाथों को बिसात पे ऐसा फेरा के एक झटके में सारे मुहरें ज़मीन पे आ गिरे 
काले-सफ़ेद मुहरे  आठ सफ़ेद प्यांदे  आठ काले प्यांदे  एक ही आकार के प्यांदे  और  उनके साथ बाक…

India – Where are you headed

Mirror mirror on the wall, what thou shall be if the wall hath a fall                 Democracy they say is to the people by the people for the people. We the people of India must take a break from our fast lives and halt for a while just to look back and forward asking few questions. Where are the people who were with us at the start of the walk that we set forward for after the tryst with destiny? Have we not walked these 65 years systematically leaving a lot many brethren behind, limping their way forward seeking help? Trends                 Certain scholars today study intergeneration occupational mobility and try to see how amidst the phenomenal economic growth of our country, things have changed for the newer generations. Are they living in a better or different India? Are their occupations different from their fathers’ and fore-fathers’? Though there is a lack of data also making such studies for the women is difficult as in our society after marriage women start to live with the …