दिल को फ़िक्र-ऐ-जिंदगी न रही मैं आखिर क्या करूँ

दिल को फ़िक्र-ऐ-जिंदगी न रही मैं आखिर क्या करूँ 
अक्ल कहती है जवानी का वक़्त ज़ाया ना करूँ 

अब रकीबों के शहर में मैं कभी जाता नहीं 
बे मने दिल से वो कहते हैं के मैं आया करूँ 

क्या अदम से इंजील तक के सफ़र से वाकिफ नहीं
कह रहे हो के नया जोश-ओ-जुनूं पैदा करूँ

बैठा हूँ बज़्म-ऐ-साकी और जाम खाली हो चला
रख के ऊँगली होंठ पे कहता है शिकायत ना करूँ

-ckh.
(First Sunday morning of 2104.)

P.S:
रकीबों : friends.
अदम: Adam (first man on earth).
इंजील: Bible.
बज़्म-ऐ-साकी: In company of the bartender (second meaning - God).
जाम: glass of wine (second meaning - human body, wine - life/ soul)

Comments

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)