हमें गाँव जाना होगा

कई वर्षों बाद जीवन की व्यस्तता को दो पल के लिए भूल कर मैं चार दिन के लिए गाँव हो आया। ये चार दिन कई कारणों से चार वर्षों जितने लम्बे और चार पल से भी छोटे लगे। मेरी समझ से ये इस कारन था क्यूँ कि समय एक सामान गति से नहीं गुज़रता घडी की सुइयां मानव मस्तिष्क के भीतर चल रही भावना की लहरों को यदि गिन पातीं तो ये बात स्पष्ट हो जाती। जहां एक ओर  बारिश की पहली बौछारों से तेज़ी से पकते आम और हवा के थपेड़ों से हिलती टहनियां पर गाँव के बच्चों के सटीक निशानों से टूटते फल, घंटों तक चलते हुए भी दो पल का ही लगा। वहीं दूसरी और जिन कन्धों पे बैठ कर गाँव देखा था उस बाबा का लकवे के असर से जर-जर हुआ शरीर और उम्र के साथ खोती यादास्त से भोझ बनता जीवन दो चार वाक्यों के संवाद को वर्षों सा लम्बा बना गया। 

मैं क्या देख कर आया हूँ अब आप को कैसे बतलाऊँ। इतना ज़रूर समझ पाया के देश की समस्याएं यदि गाँव से शुरू होती हैं तो कहीं न कहीं दिल्ली काफी समय  से काफी गहरी नींद में सोया रहा है, जो आज भी मेरा गाँव वहीं खड़ा है जहां कई वर्षों पहले था। स्कूल की इमारते हैं तो मास्टर नहीं, फसलें हैं तो उन्हें सींचने को पानी नहीं, बिज़ली कटौती इतनी के मोबाइल फ़ोन चार्ज नहीं किया जा सकता बाकी के काम का अंदाजा आप लगालें, सड़कें जरूर बनी हैं पर देखें के सड़कों से कितना कुछ आ जा सकता है इन गावोंमें। 

गाँव के भोले लोग अपनी समस्याओं को खुद समझ नहीं पाते। मैंने कोशिश की कुछ परिवारों से बात कर के उनकी समझ को समझने की समझ में ये आया के वे बहुत कुछ समझना नहीं चाहते। दो बच्चे अभी कन्धों पे बैठ खेल रहे हैं तो तीसरा आने वाला है।  उसे कहाँ बिठायेंगे ये प्रश्न बेतुका लगा उन्हें। 

खैर कम शब्दों में इतना कह सकता हूँ के भारत का विकास अखबार पढ़ कर या  टीवी देख कर नहीं समझा जा सकता है, हमें गाँव जाना होगा ।    

Comments

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)