ये खलिश पल-चक्रेश- की जेब में (कलम को शुक्रिया)

ये खलिश पल रही लफ़्ज़ों के टुकड़ों पर
वगर्ना दिल तेरी क्या ज़ीस्त थी इस भरी भीड़ में
यहाँ लोग हैराँ हैं देख कर हुस्न को..
यहाँ हुस्न है मुशरूफ़, झूठी तारीफ़ में ..
एक दिल ..सच्चा दिल ...किस काम का यहाँ
यहाँ बिक जाते हैं सैकड़ों भीड़ में
टूट जाते हैं ठंढी सर्द रात में ..
पल रहा तू मगर चक्रेश के
अंदाज़-ऐ-बयाँ और स्याही पे
कोई फ़रिश्ता तुझे पालता भीड़ में
वगर्ना मर जाता तू भी सभी की तरह ..

Comments

कितनी खूबसूरती से जज्बातोँ को उकेरा आपने
आपका बयान हमेशा की तरह प्यारा!!
Chakresh said…
thans Sanjay ji ..aap mere sabse poorane padhne waalon meni se hain...aap ka bahut aabhaari hun

Popular posts from this blog

Sochata hun ke wo (Nusrat Fateh Ali Khan) Translation

The Indian Civilization (A Sequel)

KATHPUTALI(Hindi poem)